लाइव ट्रेडिंग रणनीतियाँ

मुद्राएं अलग

मुद्राएं अलग
तिथि और समय विकल्प आपके डिवाइस की “तिथि और समय” सेटिंग्ज़ पर निर्भर करते हैं।

Job Loss Insurance: नौकरी जाने पर नहीं होगी पैसे की तंगी, ये इंश्योरेंस पॉलिसी करेगी इनकम की भरपाई

iPad के Keynote में तिथियों, मुद्राओं इत्यादि को फ़ॉर्मैट करें

टेक्स्ट, संख्याएँ, मुद्रा, प्रतिशत, तिथि और समय तथा समय को दर्शाने वाली अवधि (उदाहरण के लिए, “3 सप्ताह 4 दिन 2 घंटे”) दर्शाने के लिए टेबल सेल का फ़ॉर्मैटिंग करें। सेल फ़ॉर्मैट से यह निर्धारित होता है कि सेल का डेटा किस रूप में दिखाई देता है।

आपके द्वारा संख्याओं, मुद्रा इकाइयों या प्रतिशत मानों वाले सेलों में दशमलव स्थान का निर्धारण किया जा सकता है भले ही सेल में दर्ज किया गया मान आपके द्वारा वांछित मान जिसे प्रदर्शित करने की आपकी इच्छा है, उससे अधिक सटीक हो।

सेल में कॉन्टेंट टाइप किए जाने के बाद भी सेल के फ़ॉर्मैट को बदला जा सकता है। उदाहरण के लिए, यदि आपके निकट मूल्यों का एक टेबल है, तो आप उन्हें मुद्रा के रूप में फ़ॉर्मैट करके और फिर अपना वांछित मुद्रा चिह्न चयनित करके सेल में एक मुद्रा चिह्न (उदाहरण मुद्राएं अलग के लिए, डॉलर का चिह्न $) जोड़ सकते हैं।

सेल को ऑटोमैटिकली फ़ॉर्मैट करें

पूर्व निर्धारित रूप से, Keynote टेबल सेल का ऑटोमैटिकली फ़ॉर्मैट करता है, जिससे अक्षर और संख्याएँ आप जैसे उन्हें टाइप करते हैं वैसे मुद्राएं अलग दिखाई देते हैं। सेल के लिए डेटा फ़ॉर्मैट बदलने पर इसे कभी भी ऑटोमैटिक फ़ॉर्मैट पर रिवर्ट किया जा सकता है।

अपने वांछित सेल या टेबल को फ़ॉर्मैट करने के लिए वह सेल या टेबल चुनें, पर टैप करें, फिर “फ़ॉर्मैट करें” पर टैप करें।

“ऑटोमैटिक” पर टैप करें।

संख्याएँ

डिफ़ॉल्ट रूप से संख्याओं के रूप में फ़ॉर्मैट सेल आपके द्वारा उसमें टाइप किए गए अनुसार दशमलव स्थान प्रदर्शित करते हैं। आपके द्वारा इस सेटिंग को बदला जा सकता है ताकि संख्याओं के रूप में फ़ॉर्मैट सेल समान दशमलव स्थानों की संख्या प्रदर्शित करें।

दशमलव सेटिंग्ज़ के परिवर्तन संख्याओं और प्रतिशत दोनों में लागू होते हैं। उदाहरण के लिए संख्या वाले सेल को प्रतिशत में बदले जाने पर प्रदर्शित दशमलव स्थान की संख्या बदलती नहीं है।

अपने वांछित सेल या टेबल को फ़ॉर्मैट करने के लिए वह सेल या टेबल चुनें, पर टैप करें, फिर “फ़ॉर्मैट करें” पर टैप करें।

“अंक” के दाईं ओर पर टैप करें, किसी फ़ॉर्मैट (अंक, वैज्ञानिक या भिन्न) पर टैप करें, फिर दशमलव स्थानों की संख्या तथा अन्य प्रदर्शन विकल्प सेट करें।

मुद्रा (मौद्रिक मान की इकाइयाँ)

डिफ़ॉल्ट रूप से सेल दो दशमलव स्थानों तक मुद्रा के प्रदर्शन के लिए फ़ॉर्मैट है। इस सेटिंग को बदला जा सकता है ताकि सेल, उतने दशमलव स्थान प्रदर्शित करे जितने आप उसमें टाइप करते हैं या ताकि सभी सेल दशमलव स्थानों की समान संख्या प्रदर्शित करें।

अपने वांछित सेल या टेबल को फ़ॉर्मैट करने के लिए वह सेल या टेबल चुनें, पर टैप करें, फिर “फ़ॉर्मैट करें” पर टैप करें।

“मुद्रा” की दाईं ओर पर टैप करें।

दिखाई देने वाले दशमलव स्थानों की संख्या को संशोधित करने के लिए निम्नलिखित में से एक कार्य करें :

उतने दशमलव स्थान प्रदर्शित करें जितने आप प्रत्येक सेल में टाइप करते हैं : पर तब तक टैप करें, जब तक आप “स्वतः” सेटिंग पर नहीं ऐक्सेस जाते।

प्रदर्शित दशमलव स्थानों की संख्या को बढ़ाएँ या घटाएँ : “दशमलव” के बग़ल में स्थित पर टैप करें।

स्वयंभू बाबा के इलाके में चलती थी अलग मुद्रा प्रणाली

Reported by: Bhasha
Updated on: August 27, 2017 16:27 IST

gumeet ram rahim- India TV Hindi News

gumeet ram rahim

सिरसा: सिरसा में मुद्राएं अलग डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय में पंथ प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के अनुयायी, जो वहां दुकानों का संचालन करते थे वे ग्राहकों को छुट्टे देने के लिए अलग मुद्रा प्रणाली चलाते थे।

डेरा परिसर के भीतर और ईदगिर्द स्थित इन दुकानों पर नाम के प्रारंभ में सच मुद्राएं अलग लिखा होता था। ग्राहक यदि भारतीय करंसी में खुल्ले नहीं दे पाते तो दुकानदार इनके बदले पांच और दस रूपये के प्लास्टिक के सिक्के या टोकन उन्हें दिया करते थे।

Mudra Card: मुद्रा कार्ड क्या है और डेबिट या क्रेडिट कार्ड से कितना है अलग, कहां होता है इस्तेमाल

Mudra Card: मुद्रा कार्ड क्या है और डेबिट या क्रेडिट कार्ड से कितना है अलग, कहां होता है इस्तेमाल

TV9 Bharatvarsh | Edited By: Ravikant Singh

Updated on: Apr 25, 2022 | 7:00 AM

मुद्रा कार्ड (Mudra Card) के बारे में आपने सुना होगा. यह भी सुना होगा कि जो लोग प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PM Mudra Scheme) के तहत बिजनेस आदि के लिए लोन लेते हैं, उन्हें यह मुद्रा कार्ड दिया जाता है. पीएम मुद्रा योजना दुकानदारों, व्यापारियों, विक्रेताओं और एमएसएमई में लगे कारोबारियों के लिए है. इस योजना में कृषि से जुड़े लोन छोड़कर अन्य तरह के कर्ज लिए जा सकते हैं. जो भी व्यक्ति मुद्रा योजना में लोन लेता है, उसे स्कीम का लाभ मुद्रा कार्ड के माध्यम से दिया जाता है. मुद्रा कार्ड एक डेबिट कार्ड (Debit Card) की तरह ही होता है, लेकिन खाते से पैसे निकालने का तरीका अलग होता है.

ये भी पढ़ें

5 बेस्ट क्रेडिट कार्ड जो सस्ते में दे रहे कई ऑफर, कैशबैक और गिफ्ट वाउचर का उठा सकते हैं फायदा

5 बेस्ट क्रेडिट कार्ड जो सस्ते में दे रहे कई ऑफर, मुद्राएं अलग कैशबैक और गिफ्ट वाउचर का उठा सकते हैं फायदा

PM गरीब कल्याण योजना में बांटे गए 14 करोड़ फ्री LPG रिफिल, इस आसान तरीके से आप भी कर सकते हैं अप्लाई

PM गरीब कल्याण योजना में बांटे गए 14 करोड़ फ्री LPG रिफिल, इस आसान तरीके से आप भी कर सकते हैं अप्लाई

EPF अकाउंट में कॉन्टेक्ट डिटेल सहित KYC अपडेट कैसे करें, बस एक बार में निपटा सकते हैं पूरा प्रोसेस

क्या है डिजिटल करेंसी ? कैसे है वर्तमान मुद्रा से अलग ? और क्या है इसके लाभ?

Priyank Vyas

राज एक्सप्रेस। देश में हर तरफ डिजिटल करेंसी को लेकर बातों का रुझान तेज हो गया है। आज देखा जा रहा है कि लोग बहुतायत में क्रिप्टोकरेंसी में इंवेस्ट कर रहे हैं। इस बीच भारतीय रिज़र्व बैंक यानि आरबीआई के द्वारा भी खुद की डिजिटल करेंसी लॉन्च किए जाने की बातें की जा रही हैं। कुछ समय पहले ही देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी बजट 2022 की पेशकश करते हुए यह कहा था कि, अगले वित्त वर्ष के दौरान रिजर्व बैंक डिजिटल रुपया लॉन्च करने वाला है। उनके इस बयान के साथ ही यह बात भी साफ हो जाती है कि अब हमारा देश भी डिजिटल करेंसी मार्केट में कदम रख रहा है। ऐसे में आज हम आपको डिजिटल करेंसी से जुड़ी हर बात बताने वाले हैं।

भारतीय मुद्रा का डिजिटल रूप होगी ये करेंसी

2022-23 का केंद्रीय बजट पेश करते वक्त वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने डिजीटल करेंसी (Digital Currency) के बारे में मुद्राएं अलग बात की. उन्होंने कहा था कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया वित्त वर्ष 2022-23 में डिजीटल करेंसी को लॉन्च करेगा, और ये भारत सरकार की आधिकारिक डिजिटल करेंसी होगी. इसके अलावा उन्होंने बिटकॉइन जैसी वर्चुअल करेंसी से होने वाले मुनाफे पर फ्लैट 30% टैक्स की भी घोषणा की थी. तब से ये दोनों चीजें चर्चा का विषय बनी हुई हैं. हालांकि इस बारे में ज्यादा सूचना या विवरण सरकार ने नहीं दिया है. तो चलिए आज आपको डिजीटल करेंसी के बारे में बताते मुद्राएं अलग मुद्राएं अलग हैं.

क्या है डिजिटल करेंसी?
सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) वो करेंसी होगी जो केंद्रीय बैंक, यानी भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा जारी एक डिजिटल मुद्रा होगी. यह "ब्लॉकचैन और अन्य तकनीकों" पर आधारित होगा. सरल शब्दों में कहें तो CBDC भारतीय रुपये का एक मुद्राएं अलग डिजिटल रूप होगा. एक बार जब आरबीआई डिजिटल करेंसी को जारी करना शुरू कर देगा तो हम और आप जैसे आम लोग नियमित रुपये की तरह ही इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. डिजिटल रुपया आपके एनईएफटी, आईएमपीएस या डिजिटल वॉलेट की तरह होगा. आप इसका उपयोग थोक लेनदेन या खुदरा भुगतान करने के लिए कर सकते हैं. आप इसे मुद्राएं अलग विदेश भेज सकते हैं. आप इसके साथ बहुत कुछ कर सकते हैं.

रेटिंग: 4.42
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 603
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *